My View

All Latest News ,Education news, opinion and guides , Views , Health , Sports , Gadgets ,Fashion and unbiased view on education , Child care , Drug addiction - MyView

Breaking

Thursday, December 6, 2018

December 06, 2018

Bandar Bhagane ka Tarika in Hindi बंदर को भगाने के तरीके

Bandar Bhagane ka Tarika in Hindi |बंदर को भगाने के तरीके

Bandar Bhagane ka Tarika in Hindi  बंदर को भगाने के तरीके
Monkey in actio

बंदर को भगाने के तरीके | बन्दरों से कैसे छुटकारा पाएं 


बन्दरों के आतंक से आज हर कोई परेशान दिखाई पड़ता है। किसानों की फसलों को भारी नुकसान पहुंचा रहे हैं। हजारों एकड़ भूमि को किसान बंजर छोड़ने को मजबूर हो गए है। सरकार समय समय पर बंदरो से निजात दिलाने का भरोसा भी दिलाती रही है। कई कदम भी उठाए गए हैं। लेकिन अभी तक सारे प्रयत्न विफल साबित हुए है। बंदरो का आतंक दिनों दिनों बढ़ता ही जा रहा है। कुछ इलाकों से बढ़ कर अब ये आतंक काफी क्षेत्रों में फैल चुका है।

 ये भी पढ़े ::  कहीं आपके बच्चे नशा तो नही करते?

Bandar Bhagane ka Tarika in Hindi  बंदर को भगाने के तरीके
Monkey Menance

कई जगह लोगों के घरों तक पहुंच गए हैं। घर से कोई भी समान निकाल कर ले जाना आम बात हो गयी है।

सरकार के प्रयास

सरकार के कई प्रयास रहे हैं। चुनाव में यह एक मुद्दा भी रहा है। सरकार ने  इनकी संख्या को कंट्रोल करने के लिए नसबंदी केंद्र भी स्थापित किए हैं। जिससे इनकी संख्या में कुछ हद तक नियंत्रण में आई है ।
सरकार ने इन्हे वर्मी भी घोषित किया है। जिससे लोगो को इन्हें मारने की छूट प्राप्त हो गयी है , हालांकि ये छूट कुछ निर्धारित क्षेत्रों तक ही सीमित है।
सरकार ने बंदर पकड़ कर देने वालों को रेट भी निर्धारित किये है।

ये बात अलग है कि धार्मिक आस्था के चलते किसी ने भी बंदरों को नही मारा और पकड़ने के लिए भी कोई आगे नही बढ़ा।


Bandar Bhagane ka Tarika in Hindi  बंदर को भगाने के तरीके
Monkey Action


दिल्ली में जब बन्दरों का उत्पात बढ़ा और आये  दिन   किसी न किसी पर हमला होने लगा तो बन्दरों को भगाने के लिए लंगूरों की सहायता ली जहर लगी। लेकिन कोर्ट ने लंगूरों को संरक्षित प्रजाति घोषित करके इस तरह के प्रयोगों पर रोक लगा दी।

बंदर को पकड़ने का तरीका


इसके बाद बन्दरों को भगाने के लिए मंकी मैन का सहारा लिया जाने लगा । दिल्ली नगर निगम ने कुछ व्यक्तियों को लंगूरों  की आवाज निकाल कर बन्दरों को भगाने के काम पर लगाया है।
जो किसान व लोग बन्दरों के आंतक से परेशान है । वे इस आवाज का सहारा लेकर बड़ी आसानी से बन्दरों से निजात पा सकते है। इसके लिए वो इस आवाज को डाउनलोड करके , छुप कर किसी जगह से बीज सकते हैं।

ये भी पढ़े : :  Cloves ke fayde in Hindi । लोंग के साथ हेल्थी रहने के टिप्स

बंदर को भगाने के तरीके


इस आवाज को सुनते ही बन्दर दुम दवा कर भाग खड़े होंगे। कहीं आस पास भी दिखाई नही देंगे.

Bandar Bhagane ka Tarika in Hindi  बंदर को भगाने के तरीके
Langoor ke group

इस तरह से आप किसी पाप को करने से भी बचे रहेंगे और आपकी फसलों की रक्षा भी भलीभांति की जा सकेगी। मेरे विचार में प्रैक्टिस करके ये आवाज ज्यादा से ज्यादा लोगों को खुद ही सीख लेनी चाहिए। ताकि आसानी से फसलों के नुकसान को बचाया जा सके। और किसानों की हालत में सुधार किया जा सके। इस आवाज के विडीओ video का लिंक  दिया जा रहा है जहाँ से ये आवाज सुनी जा सकती है तथा डाऊनलोड की जा सकती है। किसानों का इस प्रयत्न से भला होगा , ये हमारी कामना है।

bandar bhagane ka tarika in hindi
बंदर भगाने का तरीका video


ये भी पढ़े  :  Tourist Places in India | Naina Devi Temple

ये तरीका अपनाकर आप निश्चित तौर पीआर बंदरों के आतंक से निजात प स्केगे तथा अपने परिवार सहित फसलों को भो बचा सकेगे |
MsB

Tuesday, December 4, 2018

December 04, 2018

Tourist Places in India | Naina Devi Temple


Tourist Places in India |  Naina Devi Temple 


Naina Devi Temple
Maa Naina Devi Darshan

Himachal Tourist Places | Tourist Places in India

A journey to Naina Devi is of great importance both for aesthetic as well as picnic  spot. Its wonderful  scenic beauty makes everyone stand still .  It seems almost next to pious and purity.

Naina Devi Temple
view naina Devi
 Naina Devi temple is situated at a height of   1177 mts. above sea level in district Bilaspur, Himachal Pradesh, India.
Naina Devi is a holy landmass situated at a hilltop of shivalik range near swarghat town district  Bilaspur ,   Himachal Pradesh. People nearby feel deeply associated with goddess as there are many mythologies related to temple and goddess as well.

Naina Devi Temple
Roa to Naina Devi

How to Reach Naina Devi Temple

One can reach Naina Devi through different routes. If you are coming from Chandigarh, you should come to Anandpur Sahib first.  Naina Devi is at a distance of 20 kms

Tourist Places in India
Hilly road to Naina Devi
from Anandpur Sahib, half of which passes through small hills and fills the tourists with thrill.

Also Read ::status of education in india

Then you can travel to  Naina Devi by bus, taxi, or your own vehicle . People coming from punjab, can come to Nangal from where they can travel by bus , taxi or their own vehicle.

People who come from Shimla , Kullu, Kinnour, Mandi etc have to reach Swarghat first . From where they can travel by bus taxi or their own vehicle.

Tourist Places in India

Naina Nevi temple timings |  Distance from Chandigarh 

Shri Naina Devi shrine Board is 100 kms away from Chandigarh airport which is connected with jet airways

and Indian airlines to Delhi airport. Nearest railway station is Anandpur Sahib from where Naina Devi is connected with road. Bus facilities as well as taxi service is also available for Naina Devi from Anandpur Sahib
.

Tourist Places in India  | Distance From :


     Chandigarh .. 100 kms.

     Kiratpur Sahib .... 32 kms.

     Anandpur Sahib ... 20  kms.

     Bilaspur  ..... 58 kms.

     Nangal  ...... 28 kms.

Naina Devi temple | religious pilgrimage places


Tourist Places in India
Main Gate Shri Naina Devi 

Naina Devi temple is situated at the top of a hill. Pilgrims go climbing steps and  chanting "Jai Mata Di" and "Jai Maa Naina". They can also hire 'Palki' (a palanquin) to reach 'Bhavana'.


Tourist Places in India
Roap Way Naina Devi

One can take Ropeway (cable car) to reach at 'Bhavan' . Journey has become very easy and comfortable now. Everyone  is looked after for convenience by 'Mandir Trust'.
Top view is full of joy as it is overlooked Govind Sagar Lake, a vast stretch of water, largest man made lake in Asia. Other side of temple towards west is a scene of vast plains, comprising places of Punjab and Haryana. Really this place will surely transform you to the other world in a combined feeling of thrill and devotion.
If one want to stay here, no problem at all. There are a number of 🏨 hotels where one can stay and dine at reasonable rates. Himachal Pradesh is full of such places and full of gods and goddesses. Truly it is said 'Devbhoomi',  a land of deities , a land of gods. Naina Devi is the beginning for devotees coming from  west and south side.

Tourist Places in India
View of temple shri Naina  Devi

Tourist Places in India 


This can be said as the door of all adventurous and religious places
According to mythologies a number of  tales are associated with this temple.

Tourist Places in India


Religion of Himachal Pradesh | A famous and well known runs like this : 


Once king Daksha performed 'Yagya   - a religious activity. But he didn't invite his son-in-law Shiva. Annoyed thus Sati, daughter of Daksha and first consort of Shiva, went straight to her father and asked why he  hadn't  invited Shiva. Her father insulted her husband talking rubbish and calling His names. Listening to these indignities, Sati couldn't control over her temper and simply jumped into the holy fire of Yagya and burnt herself alive. Lord Shiva got annoyed and took corpse of Sati out of fire. Placing corpse on His shoulders, He started his Tandava - a dance form believed to be performed by Almighty Shiva. All in the universe including  deities got scared by His Tandava. They got together and went to Vishanu - The Protector - to seek His help. Accepting their prayers, Vishanu unleashed His 'Sudarshana'' - round ring bore on finger - to cut corpse of Sati into pieces. Thus 51 pieces of Durga Sati fell on different places of the land and known as 'Shaktipeeths'  Naina Devi is one of them. This is place where 'Nayan' - eyes  -  of Durga Sati had fallen. Thus become the name  Naina Devi.

Naina Devi Temple
Naina Devi '' Darshan" in Pindi form

According to another legend  Mahisasur was very powerful demon. He had got a boon of immortality from Brahamma - creator of the universe. No one could have defeated him except an unmarried girl. The demon started spreading terror among people as well as gods . All were very scared of him.  To cope with Mahisasur , all gods got together and contributed their power to create goddess and gave her different weapons. Demon was bewitched by the beauty of goddess and  wished to marry her. The girl laid a condition to overcome her first in a battle . Only after that she would marry him. The battle took place and goddess defeated the demon and took out his eyes and threw them away from this place. This caused the name of  Naina Devi.

By MsB.










Saturday, November 24, 2018

November 24, 2018

status of education in india

Status of Education :     status of education in india


status of education in india


status of education in india


Education has remained a hot contested issue . People express different views regarding education and even policy makers also throw a number of experiments in the air. Therefore, education has become a magician's bag out of which anything can come out.

Present state of Education lacks almost everything which  should be there to cope with the necessities of social, economic, moral and ethical aspects. Whole education system seems rotten from pillar to post.


In spite of numberless efforts,  reality remained the same more or less. The termite of copying has eaten up the very basic of education and lack of interest among students has made the teaching learning process merely a wastage of time.

status of education in india

Different programmes to universalize education have no doubt increased the enrollment in schools, yet quality aspect lacks behind. More efforts still needed to improve the quality of education being provided in the country.

No detention policy also played a major role to bring the education system to such a miserable level. Students have no fear or worry to their exams and they remain careless about their studies as most of them care only to get through the exams that's all. They don't know the true meaning and purpose of education and passing exams is a great achievement for them whichever ways or means they  pass, doesn't matter to them. They think they are pulling the wool over teachers' eyes and don't bother about their studies.

Also read this: कहीं आपके बच्चे नशा तो नही करते?

One more defect of education is that teachers lay much stress on mugging up facts and no attention is paid to inculcate the habit of understanding and creative writing . Consequently, students fail to form a three word sentence after ten - twelve years of formal education. This applies to each and every subject as they don't know the basics of the subject.

status of education in india


Policy makers  introduce a new experiment time and again and beat the bush after snake passes . I wonder if the government don't know the reality or they only pretend to be ignorant.  All exercises are useless as long as primary education doesn't improve. Actually we are sprinkling  water over the  leaves of a plant  and not watering it's roots. Happening all this malpractice, nobody  can expect the desired fruit.

Instead of result bar, teachers should make to work properly and sincerely throughout the year as work brings result , not results bring work.

Also read... CLOVES KE FAYDE IN HINDI । लोंग के साथ हेल्थी रहने के टिप्स

Vocational Education


A sincere effort to introduce vocational education should be evolved providing more opportunities to do practical work. Avoid theory in vocational education as much as possible and emphasize should be given on practical work. There should be 80 percent practical learning and only 20 percent theory in vocational education. It should be a separate wing like Industrial Training Institute , not just an additional subject.
 MsB
Also read.. चीन ने बनाया बनाबटी NEWS एंकर

Friday, November 23, 2018

November 23, 2018

himachal news खुशखबरी!! अब नहीं रुकेगी इन्क्रीमेंट।

खुशखबरी!! अब नहीं रुकेगी इन्क्रीमेंट।
himachal news  

सी एम का बड़ा ऐलान


himachal news
CM Jai Ram Thakur

नही रुकेगी increament


       सी एम जयराम ठाकुर जी ने आज कम रिजल्ट मामले में एक बड़ी घोषणा की है आज पालमपुर में मुख्यमंत्री ने घोषणा की जिन लेक्चरर/पीजीटी की कम रिजल्ट की बजह से increament रोकने के आदेशों को बापस लेने की घोषणा की है। विभिन्न शिक्षक संघ इस मामले में लगातार सरकार से सम्पर्क साधकर , इसे रदद् करने की गुहार लगाई थी। लगभग 278 शिक्षक इन आदेशों से प्रभावित हुए थे या होने बाले थे। शिक्षक संघो का तर्क है। कि रिजल्ट के लिए कई कारण जिमेबार है। ऐसे में सिर्फ अध्यापकों पर कार्यवाही करने उचित नही है। इस घोषणा को यदि अमलीजामा पहनाया जाता है  तो अवश्य ही शिक्षकों को काफी राहत मिलने की उम्मीद है
ये भी पढ़े:
CLOVES KE FAYDE IN HINDI । लोंग के साथ हेल्थी रहने के टिप्स

पीजीटी पदनाम बदला जाएगा 


यही नही मुख्यमंत्री ने पीजीटी का नाम बदल कर लेक्चरर करने की भी घोषणा की है। काफी समय से लेक्चरर के बजाए पीजीटी की नियुक्ति की जा रही थी, जिसके कारण लेक्चरर एक डेड कैडर बन गया था । इस फैसले से लेक्चरर कैडर को एक नई जान मिल जाएगी। इस कि डिमांड भी काफी समय से की जा रही थी।

कोटा बढ़ाने को अभी इतंजार


हालांकि 60 परसेन्ट कोटे की डिमांड अभी पूरी नही हो पाई है।
इस बारे में बाद में विचार करने का आश्वासन दिया गया है ।
ये भी पढ़े:
कहीं आपके बच्चे नशा तो नही करते?

Monday, November 19, 2018

November 19, 2018

Cloves ke fayde in Hindi । लोंग के साथ हेल्थी रहने के टिप्स

Cloves ke fayde in Hindi  लोंग के साथ हेल्थी रहने के टिप्स।


 लोंग (cloves)
Laung ke totke
लौंग cloves

लोंग काफी मात्रा मे janjibar जाजीबार और मलक्का मे उत्पादित होता है ।  लोंग के पेड़ काफी बड़े हो जाते है। पेड़ 9 - 10 सालो मे एफ़एल देने लगता है । ये खुशबूदार व काले रंग का होता है। मशीनों के द्वारा इस से तेल भी निकाला जाता है

Laung ke totke ।


लॉन्ग के तेल को औषधि के रूप में प्रयोग में लाया जाता है ।
आयुर्वेदिक मतानुसार लॉन्ग (cloves)के गुण :
लॉन्ग आँखों के लिए बहुत ही लाभकारी माना गया है। ये पाचकशक्ति बर्धक, शीतल व पाचक होता है। ये प्यास , हिचकी , खाँसी , रक्तविकार आदि रोगों को दूर करता है। मुँह से लार अधिक आना व दांत के दर्द में भी लॉन्ग काफी लाभकारी है।
यूनानी चिकित्सापद्धति के अनुसार लॉन्ग को  खुश्क, गर्म व उतेजक माना गया है। इसको खाने से पाचन क्रिया में बढ़ोतरी होती है । दांतो और मसूड़ों को मजबूत बनाता है।

वैज्ञानिकों  का विचार
लॉन्ग गर्म होता है । यह पेट दर्द में आराम पहुचाता है । गर्भवती महिला को उल्टी आने पर लोंग को गर्म पानी मे भिगोकर, पानी पिलाने से लाभ मिलता है। लॉन्ग के तेल की मालिश कपूर की मालिश के समान ही गुणकारी होती है।

रोगों में लौंग का प्रयोग

जुकाम होने पर लौंग का पानी मे उबाल कर काढ़ा बना लें। इसे बार बार पीने से जुकाम ठीक हो जाता है लॉन्ग के तेल की 2-3 बूंद को 30- 35 gm शक्कर में मिला कर खाने से जुकाम ठीक होता है। रुमाल पर लॉन्ग का तेल डाल कर सूंघने से भी जुकाम मिटता है। 100ml पानी मे 3 लॉन्ग डाल कर उबाल लें, और जब पानी आधा रह जाये तो उसमें नमक मिला कर पीने से जुकाम ठीक होता है।

#2  दांतो के रोगों में लौंग लाभदायक


कीड़े लगे हुए दांत के खोखले भाग में लॉन्ग रखने या तेल रखने से दर्द में आराम मिलता हैं। दर्द बाले दांत के नीचे रुई को लांग के तेल में भिगो कर रखें व लार को बाहर बहने दे । लॉन्ग को आग में भून कर दांत के गड्डे में रखने से दर्द कम हो जाता है।
नीबू के रस में 5 लॉन्ग पीस कर मिला लें तथा इससे दांतों पर मालिस करें, दर्द में लाभ होगा। अथवा 5 लॉन्ग एक गिलास पानी मे उबाल कर उससे दिन में तीन बार कुल्ला करने से लाभ होगा।

#3    प्रमेह रोग


लौंग, जायफल,पीपल को 5 gm लेकर उसमें 20gm कालीमिर्च और 150gm सोंठ लेकर उसमें मिलाकर पाउडर बना लें। पाउडर को उसी के बराबर शक्कर के साथ  खाने से भूख न लगना, खांसी, बुखार, प्रमेह, सांस रोग व ज्यादा दस्त आने पर लाभदायक है।

ये भी पढ़ें :
कहीं आपके बच्चे नशा तो नही करते?

सूखी व गीली खाँसी में प्रयोग
मुँह में 2-3 लौंग रखकर चूसते रहना चाहिए।
लौंग को घी में तलकर रख लें। खांसी आने पर इसे चूसें, सूखी खांसी में लाभ मिलेगा।
लौंग और अनार के छिलके को बराबर मात्रा में पीस लें। बराबर मात्रा में शहद मिला कर दिन में 3 बार चाटने से खांसी में लाभ मिलेगा ।

#4  भूख न लगना


आधा gm लौंग का पाउडर 1gm शहद में मिला कर सुबह खाली पेट सेवन करें। कुछ ही दिनों में अच्छी भूख लगनी शुरू हो जाएगी। और खाया हुआ अच्छे से पचना भी आरम्भ हो जायेगा।

#5   सिर दर्द


लौंग को पीस कर सिरपर लेप करने से सिरदर्द तुंरत ठीक हो जाता है। इसका तेल भी लगा सकते हैं या 5 लौंग पीसकर एक कप पानी मे उबालें। जब पानी आधा रह जाये तो छान कर सुबह शाम पिलायें। सिरदर्द में आराम मिलेगा।
लॉन्ग के तेल को सिर व माथे पर लगायें या नाक के दोनों नथूनों में डालें। इस से सिर दर्द दूर हो जाएगा।








Monday, November 12, 2018

November 12, 2018

कहीं आपके बच्चे नशा तो नही करते?

बढ़ते नशे के प्रति जागरूक रहें मां बाप



आज कल नशा एक सिरदर्द बना हुआ है। हर कोई इस समस्या के बारे में चिंतित हैं। लेकिन समस्या का कोई हल मिल नही पा रहा है। तरह तरह के फार्मूले ढूढे जा  रहे है।

 हिमाचल में एक नई कबायत शुरू हुई है , वो यह है कि अब सिलेबस में एक नया चैप्टर जोड़ने की तैयारी हो रही है । यक्ष प्रश्न यह है कि  इसका कितना असर दिखने वाला है । चाहे जो भी हो प्रयास तो हो रहे हैं।
कारण
असली जड़ कहां है इस तरफ तो शायद ही किसी का ध्यान  जा रहा है। नशा केवल नशा करना मात्र नही है बल्कि ये हमारे सामाजिक और  आर्थिक पक्ष को भी उजागर करने वाला है। हमारा समाज कितना सजग और संवेदनशील है ये भी कही न कही इस कुरीति से जुड़ा हुआ है ।

सामाजिक पक्ष



आज समाज मे नैतिक मूल्यों का पतन होता दिख रहा है। अगर इसी तीब्रता से ये क्रम चलता रहा तो स्तिथि और भी भयानक हो सकती है। लोगों के पास अपने बच्चों का ध्यान रखने उन पर सकारात्मक निगरानी रखने का समय भी नही है। पेरेंट्स का अलावा किसी और को किसी के बच्चों से कोई सरोकार नहीं है।


कुछ साल पहले तक एक बुजुर्ग या बड़ी आयु का व्यक्ति पूरे गांव और पूरे समाज का बुजुर्ग हुआ करता था। मतलब वो यदि किसी बच्चे को कोई नशा या कोई भी गलत काम करते देख लेता था तो चाहे वो बच्चा किसी का भी हो उसे डांट दिया करता था। वो बच्चा भी उसकी डांट को सकारात्मक लेकर  उस गलती को सुधार लिया करता था। वो वयस्क उसके घर बालों को भी सूचित कर देता था  ताकि वो सजग हो सकें। आज इस बात की भारी कमी महसूस हो रही है। कोई भी पेरेंट्स सदा अपने बच्चों के साथ नही रह सकते । उस बक्त दूसरे बड़े व्यक्ति उनके पेरेन्ट्स  की भूमिका में होने चाहिए। ये सांझा निगरानी बहुत आवश्यक है।

आर्थिक पक्ष




नशे के गर्त में धकेलने के लिये आर्थिक पक्ष भी काफी जिमेबार है। कुछ परेंट्स अपने बच्चों को अंधाधुंध पैसा देते है । कुछ ज्यादा नही तो उतना दे देते हैं जितना बच्चे तरह तरह के बहाने बनाकर डिमांड करते है।  इसकी कोई छानबीन नहीं करते है कि मांगा गया पैसा कहां और किस चीज पर खर्च किया गया। आज स्थिति ये हो गई है कि जिन बच्चों को खुला पैसा मिल रहा है वो तो नशे को अपना रहे हैं बल्कि दूसरे भी उनकी देखा देखी में नशे को अपना रहे हैं चाहे पैसा प्राप्त करने के लिए उन्हें कोई अपराध ही क्यों न करना पड़े। बिना पैसे बाले नशे को बेचने का काम पकड़ लेते हैं।

बेरोजगारी की समस्या

आज  के युग मे जहां परिवार का पेट पालना दूभर है ऐसे में बेरोजगार होना और भी विनाशकारी होता जा रहा है।  पैसा कमाने के लिए आदमी किसी भी हद तक जा सकता है। यही बजह है कि बच्चों को एसेट के रूप में नहीं बल्कि बाजार के रूप में देखा जा रहा है। कोई भी बेरोजगार स्कूल में पढ़ने बाले बच्चों को नशा बेच कर पैसा कमा सकता है। किशोरावस्था में बच्चों को सोचसमझकर ही पैसा देना होगा ।और उसका उपयोग भी जरूर पूछना होगा। एक जागरूक परेंट्स बनना होगा।

बच्चों की क्षमता को पहचाने

हर माता पिता को अपने बच्चे की पोटेंशियल को पहचाना होगा। उनसे ज्यादा उम्मीद रखना बेमानी


है । उनसे उतनी ही आशा करो जितनी उसकी क्षमता है। डॉक्टर या इंजीनियर न बने तो कोई बड़ी बात नहीं , उसे अच्छा इंसान बना दो यही बड़ी बात है। अधिक उम्मीद से बच्चों में तनाव बढ़ता है , निराशा फैलती है। जिसका परिणाम ये निकलता है कि बच्चे नशे का सेवन करने लग जाते है।
MsB

Saturday, November 10, 2018

November 10, 2018

Jio के 398 rs या इससे अधिक के रिचार्ज पर 300 रुपये वापस हो जाएंगे



कम्पनी ने जारी किए सिक्रेड कोड




मुकेश अम्बानी की कम्पनी रिलायन्स जिओ दिवाली धमाका आफर दे रही है।दूसरी वॉलेट कंपनी से रिचार्ज पर कैश बैक ऑफर कर रही है। इसमें 300 रुपये तक का कैशबैक यूजर को मिल रहा है।

Term एंड condition के साथ मिल रहा कैश बैक
.कैशबैक का बेनिफिट PayTm, FonPay, amazon Pay , मोबिक्विक पर मिलेगा ।
. ऑफर 1 से 15 नवंबर तक वैलिड है
.इसमे मिनिमम 30 और अधिकतम 300 रुपये का कैश बैक मिलेगा ।
. ऑफर नए और पुराने दोनों कस्टमर के लिए है जो इन वॉलेट को यूज़ करते हैं।
. कैश बैक का बेनिफिट लेने के लिए यूजर को इन वॉलेट के द्वारा 398 या उससे अधिक का रिचार्ज कराना होगा ।

किस वॉलेट में कितना कैशबैक मिलेगा

PayTm

इस मे नए यूजर के लिए 30 रुपये का कैश बैक मिल रहा है उसे newjio कोड यूज़ करना होगा ।पुराने यूजर को 20 रुपये का कैश बैक मिल रहा है । उन्हें payTm jio code यूज़ करना होगा । इसके साथ ही payTm Mall से 600 रू या उससे ज़्यादा की शोपिंग पर 200 रू का अतिरिक्त कैशबैक मिल रहा है ।

फोन पे 

नए यूजर को 100 रुपये और पुराने यूजर को 25 रू का कैश बैक मिलेगा। उन्हें कोई कोड यूज़ नही करना है ।

अमेज़न पे

नए यूजर को 75 रु ओर एग्जिस्टिंग यूजर को 30 रु का कैश बैक मिलेगा। उन्हें किसी कोड को use करने की जरूरत नही है

Mobiwik

नए ओर पुराने दोनो तरह के यूजर को 300 रुपये का सुपर कैश बैक मिल रहा  है उन्हें jioplan कोड यूज़ करना पड़ेगा।

तो जिओ यूजर के लिए ये सुनहरा मौका है इस ऑफर का भरपूर लाभ उठाने का । इस प्रकार से वे एक बड़ा कैश बैक प्राप्त कर सकते है ।
,MsB,